Connect with us

Lakhimpur -KHeri

किसानों के पास अपार धन भले ही न हो लेकिन मन से होते है अमीर

Published

on

बच्चों की तरह फसल की करते हैं परवरिश

 

निर्वाण टाइम्स

निघासन/तिकुनियां-खीरी(प्रशान्त पाण्डेय/गुरमीत सिंह) विर्कदेश के अन्नदाता कहे जानें किसान तबके के लोग भले ही अर्थिक स्थित ठीक न हो बडे़ बडे़ पूजींपतियों के लिए वो गरीब हों लेकिन साहब उनका मन बहुत ही अमीर होता है।भारत देश कृषि प्रधान देश है आबादी के 60 प्रतिशत लोग किसानी पर अश्रित हैं।हम और आपको धूप में गर्मी अधिक सतानें लगती है और जाडे़ में कडा़के की ठंड सतानें लगती है लेकिन किसानों को उनकी फसल के आगे ठंड उन्हें नही मालूम देती है।फसल को उगाना उनके लिए बहुत ही मेहनत का काम होता है और आज के समय और भी ज्यादा कठिन हो गया है।वे लोग अपनी मुस्कान और अपनी मेहनत से हर मुकाम हासिल कर सकते हैं।रात दिन मेहनत करके भारत के वसिंदों को अन्न खिलानें में किसानों की ही भूमिका अहम होती है।ये गेहूं की रोटियां जो बडे़ आराम से खातें है वो रोटियां गेहूं के आटें की ही बनीं होती हैं और उसमें उसी किसान का पसीना (मेहनत)लगा होता है तब जाकर उन रोटियों में मिठास आती है।क्योकिं बातें चाहे जितनी बडी़ बडी़ की जायें लेकिन रोटियां अगर आपको खानी होगीं अन्नदाताओं के द्वारा उगायी गयी फसल से ही आप खाओगे क्योकिं गूगल से रोटियां डाउनलोड नहीं की जा सकती हैं रोटिंया डाउनलोड़ अगर हो भी गयीं तो वो आपकी भूख को और आपके परिवार की भूख को नहीं मिटा सकती हैं।जिस तरह परिवार को सुंदर बनानें के लिए संस्कार की शुरूवात से जरूरत और परवरिस जरूरी रहती है उसी प्रकार से किसानों के लिए उनकी फसल की परवरिस करनीं पड़ती तब जाकर के फसल तैयार होती है।काफी मशक्कत करने के बाद तैयार होती है फसल
किसानों के द्वारा खेतों में फसल लगानें के बाद उन्हे काफी मशक्कत करनी पड़ती है तब जाकर फसल तैयार होती है।आवारा पशुओं के द्वारा कहीं फसल को चट न कर दिया जाए इस लिए उन्हें खेत की रखवाली करने के लिए रात दिन अपने खेतों में रहना पड़ता है।पानी खाद तरह तरह की समस्याओं को सहन करनें के बाद फसल तैयार होती है।अपनी फसल का सही मूल्य लेनें के लिए 10-10 दिनों लाइन में लगना पड़ता है बाद भुगतान के लिए लंबे आरसे का इंतजार करना पड़ता है तब जाकर एक साल का मूल्य दूसरे साल किसान को नसीब होता है।
किसानों के कब बहुरेंगे दिन औन-पौनें दामों में गन्ना बेचनें पर मजबूर किसान।किसानों के एक बडी़ चुनौतीं समझें या उनकी मजबूरी समझें इस समय सरसों (लाही) और गेंहू बोनें का समय चल रहा है किसानों में किसी को सरसों बोनी है।क्योंकि इनके द्वारा लगायी गयी फसल से ही बडे़ बडे़ गोदाम भरते हैं।इस दौरान शुगर इंड्रीसट्रीज (क्रेशर) चालू हो गयीं हैं वहीं कोल्हू वालों नें तो अपना कहर सितंबर माह के आखिरी हफ्ते अक्टूबर से ही किसानों पर कहर बरपाना शुरू कर दिया और किसानों की साल भर की गन्ने की मेहनत को वह 130-180 रुपए प्रति कुंटल में खरीद रहे हैं।
किसानों की मेहनत का आधा पैसा डकार लेते हैं बिचौलिए
मैं सोचता था कि जब वस्तुओं की कीमतें बढ़ती हैं,तो किसान को लाभ होता है,लेकिन वास्तविकता यह है कि अधिकांश पैसा मध्यम पुरुषों द्वारा डकार लिया जाता है।अतःकिसान हमेशा पराजित होता है।जब कोई बंपर फसल होती है,तो उत्पादों की कीमतों मे गिरावट आ जाती है और कई बार उसे अपनी उपज सरकार को औने-पौने दामों पर या बिचौलियों को बेचनी पड़ती है और जब सूखा या बाढ़ आती है सभी जानते हैं कि क्या होता है गरीब किसानों की हालत बद से बदतर होती जाती है।अगर कुछ तत्काल नहीं किया जाता है तो किसानों के लिए और भी मुशीबतें बढ़नें लगती हैं।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ambala

मेघनाथ पराक्रम, लक्ष्मण शक्ति एवं कुंभकरण वध का मंचन हुआ

Published

on

By

करनैलगंज गोण्डा(ब्यूरो)। नगर की प्रसिद्ध रामलीला मंचन में रविवार को मेघनाथ पराक्रम, लक्ष्मण शक्ति एवं कुंभकरण वध की लीला का सजीव मंचन किया गया। लगातार रामलीला का मंचन देखने के लिए भीड़ बढ़ रही है। रविवार की लीला में मेघनाथ मायावी रथ पर आरूढ़ होकर अपने दल बल के साथ रामादल पर आक्रमण कर देता है। हनुमान, सुग्रीव, जामवंत व श्रीराम से युद्ध के बाद लक्ष्मण व मेघनाथ में घनघोर युद्ध होने लगता है। लक्ष्मण के बाणों से तिलमिला उठता है। अंत में उसने ब्रह्मा द्वारा प्राप्त शक्ति बाण का संधान किया। जिसके प्रहार से लक्ष्मण जी मूर्छित हो जाते है। फिर उनके राक्षसी सेना लक्ष्मण जी के शरीर को उठाने का प्रयास करती है इतने में हनुमान जी पहुंच जाते है और सारे राक्षसों को मार के भगा देते है और लक्ष्मण को मूर्छित अवस्था में श्रीराम के पास ले आते है। श्रीराम विलाप करने लगते है तभी विभीषण के परामर्श से हनुमान लंका जाते है और सुषेन वैध को उठाकर ले आते है। वैध के बताए अनुसार हनुमान जी द्रोरदागिरी पर्वत को प्रस्थान करते है तथा संजीवनी बूटी न खोज पाने के कारण पूरे पर्वत को उठाकर आकाश मार्ग से चल देते है। अवध क्षेत्र से गुजरते हुए भरत जी देखते है और बाण चला देते है, जिसके कारण हनुमान जी पर्वत सहित भूमि पर आ जाते है। भरत जी और हनुमान जी में वार्ता होती है तथा यह बताते है की यदि रात बीत गई तो संजीवनी का प्रभाव नही रह जायेगा और लक्ष्मण जी के प्राण बचाना मुश्किल हो जायेगा। अविलंब भरत से विदा होने के बाद हनुमान जी रमाद्ल में आ जाते है सुषेण वैध संजीवनी बूटी द्वारा औषधि तैयार करके लक्ष्मण को पिलाते है औषधि के प्रभाव लक्ष्मण जी चैतन्य अवस्था में आ जाते है सारे रामादल में प्रसन्नता को लहर छा जाती है। उधर रावण यह समाचार पाकर कुंभकरण को जगाने जाता है काफी प्रयास के बाद उसके उठने पर उसे मांस मंदिरा का सेवन कराया जाता है। फिर रावण सारी बाते बताता है कुंभकरण रावण को समझता है कि सीता जगदम्बा है उनका हरण करके तुमने अच्छा नही किया मां सीता कालरात्रि स्वरूपा है। इसलिए बैर व संघर्ष न करो सीता को वापस कर दो, तब रावण कुंभकरण पर क्रोधित होता है। भाई को उलहाना देता है अंत में कुंभकरण युद्ध के लिए प्रस्थान करता है। श्री राम में घनघोर युद्ध होता है राम के बाणों से उसका मस्तक कट जाता है वह वीरगति को प्राप्त होता है लंका में शोक व्याप्त हो जाता है। जिसमें रावण का अभिनय अभिषेक जायसवाल, मेघनाथ का अभिनय अनुज जायसवाल, कुम्भकरण का अभिनय विकास जायसवाल ने किया। लीला के लेखक व निर्देशक श्री भगवान साह तथा संचालक पंडित राम चरित्र मिश्र महाराज ने किया। मैदान में कन्हैया लाल वर्मा, नीरज जायसवाल, विमलेंद्र जायसवाल, कमलेश सोनी , आजाद कसेरा, अंसु, अंकित जायसवाल, अनूप गोस्वामी रहे।

Continue Reading

Lakhimpur -KHeri

सरकार से छात्रों को मिली टेबलेट व स्मार्टफोन की सौगात

Published

on

By

छात्र-छात्राओं को तोहफा : केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी ने विद्यार्थियों को वितरित किए टैबलेट व स्मार्टफोन, बोले- यह तकनीक से जोड़ने की दिशा में बड़ी पहल!

 

लखीमपुर-खीरी(चमन सिंह राणा/एस.पी.तिवारी) जनपद खीरी के निघासन तहसील के महात्मा बुद्ध महाविद्यालय व आईटीआई नौरंगाबाद के छात्र-छात्राओं व प्रशिक्षणार्थियों को निघासन के एक निजी गेस्ट हाउस में केंद्र केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने टेबलेट स्मार्टफोन का टेबलेट व स्मार्टफोन वितरित किए।
रविवार को निघासन क्षेत्र के एक गेस्ट हाउस में टेबलेट व स्मार्टफोन वितरण का भव्य कार्यक्रम आयोजित हुआ। कार्यक्रम में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री भारत सरकार एवं खीरी सांसद अजय मिश्र टेनी ने आईटीआई नौरंगाबाद के 252 प्रशिक्षणार्थियों को टेबलेट व महात्मा बुद्ध महाविद्यालय के 368 छात्र छात्राओं को इस स्मार्टफोन की सौगात दी। सुबह से आए छात्रों के चेहरों की रौनक स्मार्ट फोन और टैब मिलने के बाद देखने लायक थी।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने सभी विद्यार्थियों को बधाई दी और कहा कि यह हमारे विद्यार्थियों को तकनीक से जोड़ने की दिशा में बड़ी पहल है देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में डिजिटल इंडिया का सपना साकार किया जा रहा है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में सबके साथ व सबके विकास का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने इस दौरान विद्यार्थियों के लिए राज्य सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं की भी जानकारी दी।
कार्यक्रम की शुरुआत में उप जिलाधिकारी निघासन श्रद्धा सिंह ने कार्यक्रम की आवश्यकता एवं प्रासंगिकता बताते हुए टेबलेट एवं स्मार्टफोन पाने वाले विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की व वितरण के दौरान उप जिलाधिकारी निघासन श्रद्धा सिंह, तहसील निघासन,सांसद प्रतिनिधि अरविंद सिंह संजय मौजूद रहे।

Continue Reading

Lakhimpur -KHeri

सफलतापूर्वक बोर्ड परीक्षा सम्पन्न होने पर प्रधानाचार्य ने दिया धन्यवाद

Published

on

By

पलियाकलां-खीरी(विकास दीक्षित/चमन सिंह राणा)। जिला पंचायत बालिका इंटर कालेज विद्यालय कोड 311024 पलियाकलां में बोर्ड परीक्षा 2022 सकुशल सम्पन्न होने पर प्रधानाचार्य कृष्ण अवतार सिंह भाटी ने बोर्ड परीक्षाओं को विधिवत व निर्विघ्न सम्पन्न कराने में लगे अधिकारियों, व शैक्षणिक स्टाफ का आभार व्यक्त करते हुऐ कहा कि स्टैटिक मजिस्ट्रेट डॉ अभिनव वर्मा, अतिरिक्त केंद्र व्यवस्थापक  रामदीन के कुशल निर्देशन व परीक्षा प्रभारी आकृति गुप्ता की परीक्षा कोर टीम के परिश्रमी सदस्यों का भी काफी अच्छा व अभिनन्दनीय रहा।विद्यालय परिवार की तरफ से स्टैटिक मजिस्ट्रेट व अतिरिक्त केंद्र व्यवस्थापक को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर बोर्ड परीक्षा से जुड़े अधिकारियों के साथ समस्त शिक्षिक शिक्षिकायें व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।
Continue Reading

Trending

Copyright © 2020 nirvantimes.com , powered by ip digital