Connect with us

Chandauli

विकास के नाम पर लाखों डकारने वाले प्रधानों की खैर नही

Published

on


चन्दौली(फ़ैयाज़ खान मिस्बाही)। प्रधानी का चुनाव नजदीक आया तो प्रधानों ने उसकी तैयारियां भी शुरू कर दी।मगर मंडलायुक्त के तीखे तेवरों से प्रधानों की तैयारियों ने अलग मोड़ ले लिया है।जिन प्रधानों ने सरकारी धन को अपना धन समझ के खर्च किया अब उनके लिये परेशानी बढ़ती दिख रही है।जिले के गांवों में विकास के नाम पर सरकार के लाखों रुपये डकारने वाले प्रधानों की अब खैर नहीं है।ऐसे प्रधानों को आगामी चुनावों में दावेदारी का रास्ता भी कठिन हो सकता है।मामले में वाराणसी मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने ग्राम्य विभाग के अफसरों से भ्रष्टाचार में लिप्त या जांच प्रक्रिया से गुजर रहे प्रधानों की सूची तलब की है।अधिकारी सूची बनाने की तैयारी में जुट गये हैं।
जिले की सभी नौ ब्लाकों में कुल 734 ग्राम प्रधान निर्वाचित हैं। विकास कार्यों के लिए शासन की ओर से ग्राम सभाओं को प्रति वर्ष लाखों रुपये आवंटित किए जाते हैं।जिससे गांवों में आवास,शौचालय,सीसी रोड, नाली निर्माण,मनरेगा से विकास कार्य कराए जाते है।लेकिन कुछ ऐसे भी ग्राम प्रधान निर्वाचित है जिनके खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच चल रही है।
 पंचायतीराज विभाग के आंकड़ों पर गौर करें तो जांच प्रक्रिया से चार दर्जन से अधिक प्रधान और पंचायत सचिव गुजर रहे है। इसमें आधा दर्जन प्रधानों का वित्तीय और प्रशासनिक अधिकार सीज हो चुका है। लेकिन फाइनल जांच अभी बाक़ी है।उधर मंडालयुक्त भी भ्रष्टाचार में लिप्त या जांच प्रक्रिया से गुजर रहे प्रधानों की जानकारी लेने के लिए ग्राम्य विकास विभाग के अफसरों को पत्र भेजा है। 
सीडीओ ने पंचायतीराज अधिकारी ब्रह्मचारी दुबे को पत्र भेजकर ऐसे प्रधानों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। इसके बाद सूची को उच्चाधिकारियों को भेजा जाएगा।चंदौली के सीडीओ ने कहा है कि मंडालायुक्त वाराणसी की ओर से भ्रष्टाचार में लिप्त या जांच प्रक्रिया से गुजर रहे प्रधानों की सूची मांगी गई है।
प्रधानों पर मंडलायुक्त के इस कड़े रवैये से एक अजीब सा डर बना हुआ है,कि पता नही कौन इस मेरिट पर खरा उतरेगा और किस पर कार्यवाही की तलवार लटकेगी।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ambala

मेघनाथ पराक्रम, लक्ष्मण शक्ति एवं कुंभकरण वध का मंचन हुआ

Published

on

By

करनैलगंज गोण्डा(ब्यूरो)। नगर की प्रसिद्ध रामलीला मंचन में रविवार को मेघनाथ पराक्रम, लक्ष्मण शक्ति एवं कुंभकरण वध की लीला का सजीव मंचन किया गया। लगातार रामलीला का मंचन देखने के लिए भीड़ बढ़ रही है। रविवार की लीला में मेघनाथ मायावी रथ पर आरूढ़ होकर अपने दल बल के साथ रामादल पर आक्रमण कर देता है। हनुमान, सुग्रीव, जामवंत व श्रीराम से युद्ध के बाद लक्ष्मण व मेघनाथ में घनघोर युद्ध होने लगता है। लक्ष्मण के बाणों से तिलमिला उठता है। अंत में उसने ब्रह्मा द्वारा प्राप्त शक्ति बाण का संधान किया। जिसके प्रहार से लक्ष्मण जी मूर्छित हो जाते है। फिर उनके राक्षसी सेना लक्ष्मण जी के शरीर को उठाने का प्रयास करती है इतने में हनुमान जी पहुंच जाते है और सारे राक्षसों को मार के भगा देते है और लक्ष्मण को मूर्छित अवस्था में श्रीराम के पास ले आते है। श्रीराम विलाप करने लगते है तभी विभीषण के परामर्श से हनुमान लंका जाते है और सुषेन वैध को उठाकर ले आते है। वैध के बताए अनुसार हनुमान जी द्रोरदागिरी पर्वत को प्रस्थान करते है तथा संजीवनी बूटी न खोज पाने के कारण पूरे पर्वत को उठाकर आकाश मार्ग से चल देते है। अवध क्षेत्र से गुजरते हुए भरत जी देखते है और बाण चला देते है, जिसके कारण हनुमान जी पर्वत सहित भूमि पर आ जाते है। भरत जी और हनुमान जी में वार्ता होती है तथा यह बताते है की यदि रात बीत गई तो संजीवनी का प्रभाव नही रह जायेगा और लक्ष्मण जी के प्राण बचाना मुश्किल हो जायेगा। अविलंब भरत से विदा होने के बाद हनुमान जी रमाद्ल में आ जाते है सुषेण वैध संजीवनी बूटी द्वारा औषधि तैयार करके लक्ष्मण को पिलाते है औषधि के प्रभाव लक्ष्मण जी चैतन्य अवस्था में आ जाते है सारे रामादल में प्रसन्नता को लहर छा जाती है। उधर रावण यह समाचार पाकर कुंभकरण को जगाने जाता है काफी प्रयास के बाद उसके उठने पर उसे मांस मंदिरा का सेवन कराया जाता है। फिर रावण सारी बाते बताता है कुंभकरण रावण को समझता है कि सीता जगदम्बा है उनका हरण करके तुमने अच्छा नही किया मां सीता कालरात्रि स्वरूपा है। इसलिए बैर व संघर्ष न करो सीता को वापस कर दो, तब रावण कुंभकरण पर क्रोधित होता है। भाई को उलहाना देता है अंत में कुंभकरण युद्ध के लिए प्रस्थान करता है। श्री राम में घनघोर युद्ध होता है राम के बाणों से उसका मस्तक कट जाता है वह वीरगति को प्राप्त होता है लंका में शोक व्याप्त हो जाता है। जिसमें रावण का अभिनय अभिषेक जायसवाल, मेघनाथ का अभिनय अनुज जायसवाल, कुम्भकरण का अभिनय विकास जायसवाल ने किया। लीला के लेखक व निर्देशक श्री भगवान साह तथा संचालक पंडित राम चरित्र मिश्र महाराज ने किया। मैदान में कन्हैया लाल वर्मा, नीरज जायसवाल, विमलेंद्र जायसवाल, कमलेश सोनी , आजाद कसेरा, अंसु, अंकित जायसवाल, अनूप गोस्वामी रहे।

Continue Reading

Chandauli

पुलिस प्रशासन और मनोज सिंह डब्लू फिर आमने-सामने, पूर्व विधायक का घर किले में तब्दील।

Published

on

By


चन्दौली(फ़ैयाज़ खान मिस्बाही)। धानापुर महिला को न्याय देने की बजाय उसे राह बदलकर जाने की नसीहत देने वाले दरोगा का निलंबन प्रकरण में सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डब्लू व जनपद पुलिस मंगलवार को एक बार फिर आमने-सामने रहा। पुलिस ने मनोज डब्लू के आंदोलन की चेतावनी को संज्ञान में लिया और माधोपुर स्थित उनके आवास पर पुलिस की किलेबंदी कर दी,ताकि वे अपने तय वादे के मुताबिक आंदोलन ना करें।मौके पर कई थानों की फोर्स व पीएसी को तैनात कर सपा के राष्ट्रीय सचिव को घर में नजरबंद कर दिया। मामला उस वक्त तनावपूर्ण हो गया, जब नजरबंदी की सूचना से गुस्साए सपाई व स्थानीय ग्रामीणों का एक बड़ा जत्था माधोपुर पहुंचकर पुलिसिया कार्यवाही के लिए लामबंद हो गए।
इस दौरान सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डब्लू ने कहा कि जनपद पुलिस कर्तव्य पथ से भटक गयी है। उसे पहले यह समझना होगा कि उसका दायित्व क्या है? तभी तो वह उसका निर्वहन करेगी। आरोप लगाया कि पुलिस कर्तव्यों के निर्वहन की बजाय हक के लिए उठने वाली आवाज के दमन पर जोर दे रही है, जो पूरी तरह से अनुचित है। ऐसे तानाशाही रवैये से न तो शहीदी धरती धानापुर की जनता डरती है और ना ही समाजवादी सिपाही। कहा कि यदि धानापुर थाना प्रभारी पर पुलिस कार्यवाही नहीं करती है तो आंदोलन होकर रहेगा। इसे किसी भी हाल में रोका नहीं जा सकता है। पुलिस चाहती है कि जनता आंदोलन की राह ना चुके थे पुलिस अपना काम करे और धानापुर थाना प्रभारी के खिलाफ कार्यवाही को अमल में लाए। यदि ऐसा नहीं होता है तो बुधवार को धानापुर शहीद स्मारक स्थल पर समाजवादी पार्टी स्थानीय जनता के साथ पुलिस के खिलाफ आंदोलन का बिगुल फूंकेगी। पुलिस को यह स्मरण होना चाहिए कि यह वही शहीदी धरती है जिसने आजादी के आंदोलन को अपने लहू से सींचा था। इसके पूर्व माधोपुर स्थित मनोज डब्लू के आवास पर धानापुर, धीना, कंदवा व सैयदाजा थाने की पुलिस फोर्स के साथ पीएसी के जवान भारी संख्या में मौजूद रहे। पुलिस तब तक मनोज डब्लू के आवास पर डंटी रही, जब तक कि उन्होंने मंगलवार को आंदोलन स्थगित करने का ऐलान नहीं किया। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य अंजनी सिंह, रामजन्म यादव, जगमेंद्र यादव, इबरार अहमद, हाजी बिस्मिल्लाह, नैमुल हक आदि उपस्थित रहे।

Continue Reading

Chandauli

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने किया नवागत खंड शिक्षा अधिकारी का स्वागत।

Published

on

By



खंड शिक्षा अधिकारी ने दिया शिक्षक समस्याओं के त्वरित निस्तारण का आश्वासन

चन्दौली(फ़ैयाज़ खान मिस्बाही)। धानापुर मंगलवार को ब्लॉक संसाधन केंद्र पर नवागत खंड शिक्षा अधिकारी विजय प्रकाश का राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ  ब्लॉक इकाई धानापुर जिला ससंयोजक इम्तियाज खान के नेतृत्व में बुके देकर भव्य स्वागत किया।
स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए महासंघ के जिला संयोजक इम्तियाज खान ने समस्त पदाधिकारियों का खंड शिक्षा अधिकारी विजय प्रकाश यादव से परिचय कराया और साथ ही बताया कि आप धानापुर ब्लॉक से पहले जनपद के नौगढ़,सदर ब्लॉक में अपनी सेवा दे चुके हैं और अपने कुशल व्यवहार व कार्य के प्रति ईमानदारी के लिए जाने जाते हैं।आपने जिन ब्लाकों में कार्य किया है वहा पर आपकी पहली प्राथमिकता शिक्षा के स्तर का उन्नयन करना रहा है।
ब्लॉक अध्यक्ष अवधेश सिंह ने कहा कि नवनियुक्त शिक्षकों व अंतर्जनपदीय स्थानांतरण से आए शिक्षकों के एरियर बिल बनवाने के लिए खंड शिक्षा अधिकारी से आग्रह किया गया ।
खण्ड शिक्षा अधिकारी ने मंच से ही यह घोषणा की कि सभी एरियर के बिल बिना किसी देरी के लेखा कार्यालय प्रेषित किये जाएंगे और किसी भी शिक्षक को अनावश्यक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
नवागत खण्ड शिक्षा अधिकारी विजय प्रकाश ने कहा कि मैं शिक्षकों की समस्याओं को अच्छी तरह से समझता हूं।आप निश्चिंत रहें किसी भी शिक्षक को अनावश्यक परेशानी मेरे स्तर से नहीं रहेगी।बीइओ ने कहा कि प्रदेश सरकार की मिशन प्रेरणा बेसिक शिक्षा की महत्वकांक्षी योजना है जिसमे प्रदेश को प्रेरक प्रदेश बनाना है जिसके लिए सबसे पहले प्रेरक ब्लॉक बनाना पड़ेगा उसके बाद प्रेरक जिला,मण्डल फिर प्रदेश।
इस अवसर पर विजय बहादुर सिंह,राम सिंह गहरवार,अवधेश सिंह गुड्डू,बृजेश सिंह,नूर अख्तर अली,ज्ञान प्रकाश सिंह,इरफान अली,अशोक पाल,संजय यादव,नत्थू यादव,प्रदीप सिंह,अरविंद सिंह,अजित सिंह,शिवम पांडेय,लक्ष्मण प्रसाद,ज्ञानचंद कांत,शिवेंद्र मिश्रा,दीपक कुमार,दीपक मर्या,चन्द्रजीत कुशवाहा,सुभाष यादव, सहित कई शिक्षक उपस्थित रहे ,कार्यक्रम का संचालन विद्याधर मिश्रा व ज्ञान प्रकाश ने किया।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2020 nirvantimes.com , powered by ip digital